इराक़ी शहर मोसुल की ओर बढ़ते इराक़ी सैनिक.Image copyrightREUTERS

अमरीका ने आरोप लगाया है कि इराक़ी सुरक्षा बल जैसे-जैसे इस्लामिक स्टेट (आईएस) के मज़बूत गढ़ मोसुल के नज़दीक बढ़ रहे हैं, आईएस नागरिकों का इस्तेमाल ढाल के रूप में कर रहा है.

इराक़ी सुरक्षा बल दो दिन से मोसुल को आईएस के कब्ज़े से मुक्त कराने के लिए अभियान चला रहे हैं.

एक अनुमान के मुताबिक़ मोसुल में क़रीब सात लाख लोग रह रहे हैं. वहां आईएस के क़रीब पांच हज़ार लड़ाके होने का अनुमान है.

अमरीकी नेतृत्व वाले गठबंध ने कहा है कि उन्होंने दस गांवों से आईएस को खदेड़ दिया है.

मोसुल में आईएस के झंडे के साथ एक लड़ाका.Image copyrightREUTERS

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि मोसुल से लोगों को निकालने के लिए योजनाएं और संसाधन तैयार हैं.

वहीं वाशिंगटन में मंगलवार को रक्षा मंत्रालय पेंटागन के प्रवक्ता जेफ़ डेविस ने आईएस की ओर से आम लोगों का इस्तेमाल ढाल के रूप में करने की पुष्टि की है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने कुछ निवासियों से फ़ोन के ज़रिए संपर्क किया. उन लोगों ने कहा कि आईएस लोगों को शहर से निकलने से रोक रहा है.

रॉयटर्स के मुताबिक कुछ लोगों को उन इमारतों की ओर जाने को कहा है, जिनको हवाई हमले में निशाना बनाया जा सकता है.

संयुक्त राष्ट्र मोसुल के बाहर शरणार्थी शिविर बनाने की कोशिश कर रहा है. -वीवीसी हिन्दी

यो खबर पढेर तपाईलाई कस्तो महसुस भयो ?
0
0
0
0
0
0
0

प्रतिक्रिया दिनुहोस् !

संबन्धित खबर

ताजा खबर


धेरै पढिएको